चमत्कारों के रहस्य!

हम भूत-प्रेत, परग्रही द्वारा अपहरण से लेकर भविष्यवाणी करना, हवा से वस्तु उत्पन्न करने से लेकर पुनर्जन्म जैसी विचित्र बातों पर विश्वास कर सकते है। क्या आपने सोचा है कि ऐसा क्यों होता है कि शिक्षित व्यक्ति भी इन बातों पर विश्वास करते है?

वैज्ञानिक सोच का अभाव

1.मान्यता द्वारा निरिक्षण पर प्रभाव:

यदि आप किसी सिद्धांत को मानते है तब वह सिद्धांत आपके निरीक्षण को प्रभावित करता है। आप परिणामो को अपने सिद्धांत के अनुसार परिभाषित करते है। कोलंबस भारत को खोजने के लिए अमरीका पहुंच गया था, उसकी मान्यता थी कि यदि वह युरोप के पश्चिम दिशा से यात्रा करेगा तो वह भारत पहुंच जायेगा। जब वह अमरीका पंहुचा, तब उसकी मान्यता के कारण तांबे रंग के मूल अमरीकी निवासीयों को वह भारतीय मान बैठा। यही नही उसे अमरीका मे भारतीय मसाले और जड़ी बुटीयां दिख रही थी। कोलंबस अपनी निरिक्षणों को अपनी मान्यता के बाहर देख ही नही पा रहा था।

2. निरीक्षक द्वारा निरीक्षीत मे परिवर्तन:

किसी भी वस्तु का अध्यन उस वस्तु की अवस्था मे परिवर्तन कर सकती है। यह किसी मानवविज्ञानी द्वारा किसी जनजाति के अध्ययन से लेकर किसी भौतिकविज्ञानी द्वारा इलेक्ट्रान के अध्ययन पर लागु होता है। इसी कारण से मानसीकचिकित्सक “ब्लाइंड और डबल ब्लाइंड तकनीको( blind and double-blind controls)” का प्रयोग करते है। इन तकनिको मे किसी वैज्ञानिक प्रयोग मे शामील व्यक्तियों से वह जानकारी छुपायी जाती है जिससे वह व्यक्ति के चेतन या अवचेतन मष्तिष्क पर कोई पूर्वाग्रह या पक्षपात उत्पन्न हो, ऐसा परिणामो की विश्वसनियता के लिए किया जाता है। छद्म विज्ञानी ऐसा कुछ नही करते है।

3.उपकरण परिणाम का निर्माण करते है:

किसी प्रयोग मे प्रयुक्त उपकरण परिणामों को प्रभावित करते हैं। उदाहरण के लिए जैसे जैसे हमारे दूरबीनो की क्षमता बढ़ते गयी, हमारी जानकारी मे ब्रह्माण्ड का आकार भी बढ़ता गया। सीधे सीधे शब्दो मे मछली पकड़ने के जाल का आकार उसमे पकड़ी जाने वाली सबसे बड़ी मछली का आकार बतायेगा, ना कि तालाब मे सबसे बड़ी मछली का आकार!

4.श्रुति!= विज्ञान:

हम लोगो से जो किस्से कहानियाँ सुनते है, वह विज्ञान नही होता है। छद्म विज्ञानी श्रुति को मानते है जबकि विज्ञान प्रामाणिक अध्ययन को मानता है।

छद्मवैज्ञानिक सोच की समस्यायें

5.वैज्ञानिक भाषा का प्रयोग उसे वैज्ञानिक नहीं बनाती है:

किसी मान्यता की व्याख्या यदि वैज्ञानिक भाषा/शब्दो के प्रयोग से की जाये तो वह मान्यता वैज्ञानिक नही हो जाती। ज्योतिषी खगोल विज्ञान के शब्दो के प्रयोग से उसे वैज्ञानिक प्रमाणित करने का प्रयास करते हैं। सं रां अमरीका के “क्रियेशनीज्म” के समर्थको ने अपनी मान्यता को वैज्ञानिक शब्दो/भाषा के प्रयोग कर उसे वैज्ञानिक सिद्धांत के रूप मे पेश किया था लेकिन उनकी चाल पकड़ी गयी थी।

6. निर्भिक कथन उसे सत्य प्रमाणित नही करता है:

यदि आप लाखों लोगो के सामने निर्भिकता से कोई सिद्धांत पेश करें तो इसका अर्थ यह नही है कि आपका सिद्धांत सत्य है। कोई व्यक्ति अपने आपको भगवान कहे तो वह भगवान नही हो जाता। असाधारण कथन/दावे को प्रामाणित करने के लिए असाधारण प्रमाण चाहीये होते है।

7.विद्रोही/क्रांतीकारी मत का अर्थ सत्य नही होता है:

कोपरनीकस, गैलेलीयो तथा राईट बंधु विद्रोही/क्रांतिकारी विचारों के थे। लेकिन विद्रोही/क्रांतिकारी विचारों का होना ही आपको सही साबित नही करता है। होलोकास्ट से इंकार करने वाले विद्रोही/क्रांतिकारी विचार रखते है लेकिन वे गलत है क्योंकि उनके पास इसके प्रमाण नही है, जबकि उनके विरोध मे ढेर सारे प्रमाण है। ग्लोबल वार्मींग के विचार से असहमत लोग भी विद्रोही/क्रांतिकारी विचार रखते है लेकिन वे भी गलत है क्योंकि प्रमाण उनके विरोध मे हैं।

8.प्रमाणित करने की जिम्मेदारी:

असाधारण दावे को प्रमाणित करने की जिम्मेदारी दावा करने वाले व्यक्ति की होती है। यदि कोई व्यक्ति दावा करता है कि उसने अपनी मानसीक शक्ति से पर्वत को हिला दिया है तो उसे प्रमाणित भी करना होगा।

9. अफवाहे सत्य नही होती है:

अफवाहो की शुरुवात होती है “मैने कहीं पढा़ था….” या “मैने किसी से सुना था…..“। कुछ समय पश्चात यह सत्य बन जाती है और लोग कहते है कि “मै जानता हूं कि……….“। इस तरह कि अधिकतर कहांनिया गलत होती है। इंटरनेट की चेन मेल इसका सबसे बड़ा उदाहरण हैं। एक उदाहरण है मोतीलाल नेहरू के पिता का नाम गयासुद्दीन गाजी होने की इंटरनेट पर फैली अफ़वाह। दूसरा उदाहरण है टाईम्स आफ इंडीया के संपादक द्वारा भारत के प्रधानमंत्री को लिखा गया कथित पत्र।

10. अस्पष्ट का अर्थ रहस्यमय नही होता:

यदि आप किसी घटना की व्याख्या नही कर पा रहे है इसका अर्थ यह नही है कि उसकी व्याख्या नही की जा सकती है। आग पर चलना रहस्यमय लगता है लेकिन यदि आपको उसके पीछे के कारण बता दिये जाये तो वह आपको रहस्यमय नही लगेगा। यह सभी जादू की तरकीबो के साथ है, ये तरकीबे आपको उस समय तक जादुई लगेंगी जब तक आप उसके कार्यप्रणाली को नही जानते है। किसी घटना को कोई विशेषज्ञ भी समझ नही पाये तो इसका अर्थ यह नही है कि भविष्य मे कोई और उसे समझ नही पायेगा। १०० वर्ष पहले जीवाणु, परमाणु एक रहस्य हुआ करते थे। बिजली चमकने को इंद्रदेव का वज्र समझा जाता था।

11. असफलता की तर्कसंगत व्याख्या :

विज्ञान अपनी असफलता को मान्यता देता है, वह अपनी असफलता की तर्कसंगत व्याख्या करता है और अपने आपको पुनर्गठित करता है। यह छद्मविज्ञान के साथ नही होता है, वे असफलता को नजरअंदाज करते है या उसे किसी अज्ञात के मत्त्थे मढ़ देते है। जैसे जन्मतिथि की सही जानकारी ना होने से भविष्यवाणी गलत हुयी, पूजा मे कोई अशुद्ध व्यक्ति के शामिल होने से कार्य सही नही हुआ इत्यादि।

12.अंधविश्वास :

मैने अपने विशेष पेन से परिक्षा दी थी इसलिये अच्छे अंको से पास हुआ। उस खिलाड़ी ने उस नंबर की जर्सी नही पहनी थी इसलिये टीम हारी। इस तरह की मान्यतायें आत्मविश्वास की कमी से आती है। इस तरह की घटनाओ मे परिणाम और मान्य कारको के मध्य कोई संबंध नही होता है।

13. संयोग/संभावना:

अधिकतर लोगो को संभावना/प्रायिकता (Probability) के नियमो की जानकारी नही होती है। मान लिजीये कि आपने किसी को फोन करने फोन की ओर हाथ बढ़ाया और उसी का फोन आ गया। यह संयोग कैसे हो सकता है ? यह तो आपके मन और उसके मन के बीच मे कोई जुड़ाव से ही होना चाहीये ! यहां हम भूल जाते हैं कि हम किसी को हजारो बार फोन करते है, तब उसका फोन नही आता है। यदि आप सचिन तेंदुलकर को गेंद फेंके तब सचिन के बोल्ड होने की संभावना शुन्य नही होती है ! यह किसी सिक्के को उछाल कर चित/पट देखने से अलग नही है। लेकिन हम हर घटना के पीछे एक पैटर्न देखते है और नही होने पर अपने मन के अनुसार एक नया पैटर्न ढूंढ निकालते है!

तार्किक सोच में समस्याएं

14.प्रतिनिधी घटनायें :

कुछ घटनायें असामान्य लगती है लेकिन होती नही हैं। उदाहरण के लिए घर मे रात मे आने वाली खट-खट, ठक-ठक की आवाज भूतों की न होकर चुहों की होती है। बरमूडा त्रिभूज मे कई जहाज लापता हुये है क्योंकि इस भाग मे आने वाले जहाजो की संख्या ज्यादा है। वास्तविकता यह है कि इस क्षेत्र मे होने वाली दुर्घटनाओं का औसत अन्य क्षेत्र की तुलना मे कम है।
मेरे गृहनगर गोंदिया मे एक हाई वे पर एक विशेष स्थान पर दुर्घटनाएँ ज्यादा होती थी। वह स्थान सीधा था, कोई मोड़ नही, कोई बाधा नही। लोग उसे प्रेतात्मा का प्रकोप मानते थे। लेकिन वास्तविकता यह थी कि रास्ते के सीधे होने से लोग गति बढ़ा देते थे और दुर्घटना होती थी। यातायात पोलिस ने रोड विभाजक और गति नियंत्रक लगा दिये। दुर्घटनाएँ बंद हो गयी।

15.भावनात्मक शब्द और गलत उपमायें :

अलंकारो से भरी भाषा कभी कभी सत्य को छुपा देती है। भूषण कवि के अनुसार शिवाजी के सेना के हाथी जब चलते है तब पृथ्वी हिलती है, धूल के बादलो से सूर्य ढंक जाता है। इस तरह की अलंकारीक भाषा कई मिथको को जन्म देती है। विभिन्न धर्मग्रंथो की कहानियोँ मे यह स्पष्ट रूप से दिखायी देती है।
इसी तरह किसी राजनेता को “नाजी”, या “हत्यारा” जैसी भावनात्मक उपमाये दे दी जाती है जिनका अर्थ कालांतर मे बदल जाता है।

16.अनभिज्ञता का आकर्षण :

इसके अनुसार यदि आप किसी को झुठला नही सकते तो वह सत्य होना चाहीये। इसे भूतों, परामानसीक शक्तियों के बचाव मे प्रयोग किया जाता है। जैसे यदि आप भूतों, परामानसीक शक्तियों को झुठला नही सकते हो तो मानीये कि उनका अस्तित्व है। लेकिन समस्या यह है कि सांता क्लाज के अस्तित्व को भी झुठलाया नही जा सकता है। मै दावा करता हूं कि सूर्य मेरे आदेश से निकलता है, कोई इसे असत्य साबित कर के दिखाये ! विश्वास अस्तित्व के सकारात्मक प्रमाणो पर आधारित होना चाहीये, ना कि प्रमाणो के अभाव पर।

17. व्यक्तिगत आक्षेप :

इस विधी मे किसी व्यक्ति के नये क्रांतिकारी आइडीये पर से उस व्यक्ति पर व्यक्तिगत आक्षेप लगाकर द्वारा ध्यान बंटाया जाता है। जैसे डार्वीन को रेसीस्ट कह देना, किसी नेता को नाजीवादी करार देना। जार्ज वाशींगटन ने मानव गुलाम रखे थे लेकिन उससे उनकी महानता कम नही होती है। महात्मा गांधी पर लगे व्यक्तिगत आरोपो से भी उनकी महानता कम नही होती है।

18.अति साधारणीकरण:

इसे पूर्वाग्रह भी कहते है। इसमे पूरे तथ्यो को न जानते हुये भी परिणाम निकाले जाते है। जैसे किसी स्कूल मे दो शिक्षक अच्छे नही होने पर पूरे स्कूल को बुरा बना देना। या किसी कंपनी के इक्का दूक्का कारो मे आयी समस्याओं से पूरे ब्राण्ड को खराब कह देना।

19. व्यक्ति की छवि पर अति निर्भरता:

किसी भी तथ्य को बिना जांचे परखे नही स्वीकार करना चाहीये , चाहे वह किसी महान सम्मानित व्यक्ति द्वारा ही कहे गये हों। उसी तरह खराब छवि वाले व्यक्ति द्वारा दिये गये अच्छे तथ्य को बिना जांचे परखे खारीज नही करना चाहिये। हाल ही मे हुये अन्ना तथा बाबा रामदेव के आंदोलन इसके उदाहरण है।

20: या तो वह नही तो यह:

इस तर्क मे यदि एक पक्ष गलत है तो दूसरा सही होना चाहिये। उदाहरण के लिए ”क्रियेशन सिद्धांत”* के पक्षधर डार्वीन के ’क्रमिक विकास के सिद्धांत” पर हमला करते रहते है क्योंकि वह मानते है कि क्रमिक विकास का सिद्धांत गलत है। लेकिन क्रमिक विकास के सिद्धांत के गलत होने से भी क्रियेशन सिद्धांत सही सिद्ध नही होता है। उन्हे क्रियेशन सिद्धांत के पक्ष मे प्रमाण जुटाने होंगे।

21. चक्रिय तर्क :

इसमे एक तर्क को प्रमाणित करने दूसरे तर्क का सहारा लिया जाता है, तथा दूसरे तर्क को प्रमाणित करने पहले का। जैसे धार्मिक बहस मे:

क्या भगवान का आस्तित्व है ?
हां।
तुम्हे कैसे मालूम ?
मेरे धर्मग्रंथ मे लिखा है।
तुम कैसे कह सकते हो कि तुम्हारा धर्मग्रंथ सही है ?
क्योंकि उसे भगवान ने लिखा है।

विज्ञान मे :

गुरुत्वाकर्षण क्या है ?
पदार्थ द्वारा दूसरे पदार्थ को आकर्षित करने की प्रवृत्ति।
पदार्थ एक दूसरे को आकर्षित कैसे करते है ?
गुरुत्वाकर्षण से।

साधारण बहस मे:

राम कहां रहता है ?
श्याम के घर के सामने।
श्याम कहां रहता है?
राम के घर के सामने ?

22. किसी तथ्य का सहारा लेकर असंगत सिद्धांत हो सिद्ध करना:

इस मे किसी एक सर्वमान्य को तथ्य को लिया जाता है, उस पर एक नये तथ्य को प्रमाणित किया जाता है। दूसरे से तीसरे को, इस क्रम मे किसी असंगत नतिजे पर पहुंचा जा सकता है। जैसे : आइसक्रीम खाने से वजन बढता है। वजन बढने से मोटापा बढता है। ज्यादा मोटापे से हृदय रोग होता है। हृदय रोग से मृत्यु हो सकती है। इसलिये आइसक्रीम खाने से मृत्यु हो सकती है। 
कोई क्रियेशन सिद्धांत का समर्थक कह सकता है कि क्रमिक विकास के लिए भगवान की आवश्यकता नही है। यदि भगवान की जरूरत नही है, तो तुम भगवान को मानते नही हो। भगवान को न मानने मे नैतिकता नही है। इसलिये क्रमिक विकास को मानने वाले भगवान को नही मानते है और अनैतिक होते है।

सोचने में मनोवैज्ञानिक समस्याएं

23.प्रयास मे कमी तथा निश्चितता, नियंत्रण और सरलता की आवश्यकता:

हममे से अधिकतर निश्चितता चाहते है, अपने वातावरण पर नियंत्रण चाहते है और सरल व्याख्या चाहते है। लेकिन प्रकृति इतनी सरल नही है। कभी कभी हल सरल होते है लेकिन कभी कभी जटिल। हमे जटिल सिद्धांतो को समझने के लिए प्रयास करना चाहीये नाकि अपने आलस के कारण उन्हे ना समझ पाने के फलस्वरूप खारीज करना चाहिये।

24. समस्या के हल मे प्रयास की कमी:

किसी समस्या को हल करते समय हम एक अवधारणा बना लेते है और उसके बाद हम उस अवधारणा के अनुसार उदाहरण देखना शुरू कर देते है। जब हमारी अवधारणा गलत होती है तब हम उसे बदलने मे देर करते हैं। इसके साथ हम सरल हल की ओर झुकते है जबकि वह हर पहलू को हल नही करते हैं।

25.वैचारिक स्वाधीनता :

हम अपने मूलभूत विचारो से समझौता पसंद नही करते है। जो नये विचार हमारे परिप्रेक्ष्य मे सही नही होते है उनसे बचने के लिए हम अपने चारो ओर एक दीवार खड़ी कर देते है। जितनी ज्यादा प्रतिभा होगी, यह दिवार उतनी ऊंची होती है। हमारे विचित्र विचारो पर विश्वास रखने मे यह सबसे बड़ी बाधा होती है। हम इसरो और डी आर डी ऒ के वैज्ञानिको को हाथो मे अगुंठिया पहने देख सकते है।

माइकल शेर्मर की बेहतरीन पुस्तक “Why People Believe Weird Things” पढने के बाद उपजी पोस्‍ट।

* क्रियेशन सिद्धांत : इसके अनुसार पृथ्वी पर जीवन की उत्पत्ति किसी दैवीय शक्ति ने की है। यह डार्विन के प्रचलित क्रमिक विकास के सिद्धांत को नहीं मानता है।
Advertisements

पराविज्ञान पर वैज्ञानिक शोध व चुनौतियाँ

सन 1922 में ‘साइंटिफिक अमेरिकन‘ पत्रिका ने घोषणा की थी कि जो कोई भी जांच के दायरे में आकर १. आत्मा की फोटो लेगा या २. किसी भी अलौकिक शक्ति का प्रदर्शन करेगा, उसे वह 2,500 US$ ईनाम के रूप में देगी! सबसे पहले जॉर्ज वालेंटीन की जांच की गयी, जिसे जाँच टीम के द्वारा धोखा करते हुए पकड़ लिया गया और वह ईनाम नहीं जीत पाए! तब से लेकर अभी तक दुनियाभर के पचासों व्यक्तियों और संगठनों नें इस प्रकार के ईनाम की घोषणा की, मगर आज तक ऐसा कोई भी व्यक्ति नहीं हुआ, जो किसी भी व्यक्ति या संगठन से ईनाम की रकम जीत सका हो! हालाँकि चुनौती हजारों लोग स्वीकार चुके हैं, मगर सब कुछ तय करने के बाद प्रदर्शन के समय उनमें से कई आते ही नहीं, कुछ अलग अलग प्रकार के बहाने बनाते हैं, कुछ जवाब ही नहीं देते, और कुछ धोखा करते हुए पकड़ लिए जाते हैं! मतलब इन 92 वर्षो में (सन 2014 तक) ऐसा एक भी बाशिंदा नहीं मिला जिसका दावा सच निकला हो! ऊपरी नजर से देखने में सीधे-सीधे यह बात सिद्ध हो जाती है कि जितने भी व्यक्ति ऐसा दावा करते हैं, वो सभी धोखा करते हैं, उनके पास कोई अलौकिक शक्ति नहीं होती!

 जॉर्ज वालेंटीन (George Valiantine) सन 1920 के आसपास चर्चा में आये क्योंकि इन्होने दावा किया था कि एलिएंस धरती पर आते हैं और उनका हाक चीफ और कोकम (Hawk Chief and Kokum) नाम के देवदूतों (Spirit-Guides) से संपर्क है!

सन 1882 में United Kingdomमें Society for Psychical Research नाम से अपने प्रकार की संसार की पहली संस्था का जन्म हुआ, जिसका उद्देश्य विभिन्न प्रकार के अलौकिक चमत्कारों व परामनोवैज्ञानिक विषयों के सम्बन्ध में शोध करना था! यह संस्था आज भी सक्रिय है, इसके हजारों सदस्यों नें आजतक ढ़ेरों शोध किये हैं, और विभिन्न प्रकार के दावों की सच्चाई सामने लायी है जिसका निष्कर्ष है कि इन सभी घटनाओं के पीछे एक वैज्ञानिक कारण होता है, अलौकिक जैसी कोई भी चीज नहीं होती! इस संगठन की स्थापना के बाद इस विषय में शोध और लोगों को इसके प्रति जागरूक करने के लिए समय-समय पर दुनियाभर में सैकड़ों संगठनों का जन्म हुआ! जिनमे से कुछ प्रमुख संगठनों के नाम इस प्रकार हैं

अमेरिका

  1. Center for Inquiry
  2. Committee for Skeptical Inquiry
  3. Independent Investigations Group
  4. James Randi Educational Foundation
  5. New England Skeptical Society
  6. The Skeptics Society

यूरोप

  1. Swedish Skeptics’ Association
  2. Hungarian Skeptical Society
  3. Irish Skeptics Society
  4. Italian Committee for the Investigation of Claims of the Paranormal
  5. Edinburgh Skeptics Society
  6. Merseyside Skeptics Society

भारत

  1. Federation of Indian Rationalist Associations
  2. Kerala Yukthivadi Sangham
  3. Maharashtra Andhashraddha Nirmoolan Samiti
  4. Science and Rationalists’ Association of India
  5. Dakshina Kannada Rationalist Association
  6. Tarksheel Society

अन्य

  1. Australian Skeptics
  2. Young Australian Skeptics
  3. Centre for Inquiry Canada
  4. New Zealand Skeptics
  5. Richard Dawkins Foundation for Reason and Science
  6. Brazilian society of skeptics and rationalists

पुनः ध्यान दें, इस सूची में सौ से अधिक संगठन हैं, यहाँ केवल कुछ महत्वपूर्ण संगठनों को नामांकित किया गया है! इन संगठनों का कार्य परामनोवैज्ञानिक विषयों पर शोध करना है! इन सभी के शोध का बस एक ही निष्कर्ष है, कि कुछ भी अलौकिक नहीं होता! हर घटना के पीछे एक कारण होता है, जिसकी व्याख्या वर्त्तमान वैज्ञानिक नियमों से की जा सकती है! तब भी कुछ साधूसन्यासी, ज्योतिषपण्डे और अलौकिक शक्तियों का दावा करने वाले दुसरे लोग लोगों को झूठ बोलकर भ्रमित करते हैं और चालबाजी से उन्हें कुछ न कुछ ऐसा करके दिखा देते हैं जिससे लोगों को उनपर विश्वास हो जाता है! ऐसे लोग हमेशा इन संगठनों से बचने की कोशिश करते हैं! कई बार ऐसे लोगों को इन संगठनों के द्वारा अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने का न्यौता भी दिया जाता है, मगर ये कभी भी उसका जवाब तक नहीं देते!

लोगों को इन जैसे धूर्तों के चंगुल से बचाने के लिए इनमें से आधे संगठनों ने ईनाम की घोषणा भी की हुई है! उनके ईनाम की धनराशी इतनी अधिक है, की अगर एक भी आदमी जीत जाए तो उनका संगठन ही बंद हो जाए, मगर न ही आजतक कोई जीत सका है और न ही कोई जीत पायेगा, क्योंकि कोई चमत्कार होता ही नहीं है! ईनाम देनें वाले कुछ बड़े संगठनों की सूची इस प्रकार है

भारत में

  1. तर्कशील सोसाइटी, पंजाब : एक करोड़ रूपए
  2. पबीर घोष : पचीस लाख रूपए
  3. Humanist Rationalist Association, Godhra: 50 लाख रूपए यह सिद्ध करने पर कि भूत होते हैं! [TOI]

भारत से बाहर

  1. James Randi Educational Foundation : दस लाख अमेरिकी डॉलर
    Update: जेम्स रांडी के रेटायर हो जाने के कारण जेम्स रांडी फ़ाउंडेशन के बोर्ड ने इस चैलेंज को बंद करने का फ़ैसला लिया है। अब यह बोर्ड प्रतिवर्ष लगभग एक लाख डालर विश्व भर की उन संस्थाओं को दान में देगा जो अंधविश्वास को दूर करने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।
  2. Australian Skeptics : एक लाख आस्ट्रेलियन डॉलर (करीब 50 लाख रूपए) [बीस हज़ार डॉलर उसे जो किसी का नाम घोषित करेगा तथा अस्सी हज़ार डॉलर उसे जो चुनौती पूरी करेगा. अगर किसी स्थिति में व्यक्ति अपना नाम खुद घोषित करता है, तो उसे ही पूरे एक लाख डॉलर मिलेंगे!] यह केवल आस्ट्रेलिया के नागरिकों के लिए ही है।
  3. Stuart Landsborough : 1,00,000 NZ$ (करीब 51 लाख रूपए)
  4. The Independent Investigations Group : 1,00,000 US$ (करीब 65 लाख रूपए) इसके अलावा उस व्यक्ति को 5000 US$ जो ऐसे किसी चमत्कारी व्यक्ति का पता बताएगा।
  5. Daniel Zepeda : 20,000 MX$ (करीब पांच लाख रूपए)
  6. Les Sceptiques du Québec : 10,000 CAD$ (करीब पांच लाख रूपए)
  7. Harry Houdini Prize : 1,000,000 RUB (क़रीब 12 लाख रुपए)

यहाँ सिर्फ दस संस्थानों के नाम और उनके द्वारा दी जाने वाली ईनाम की धनराशि लिखी गयी है! अगर आप उनकी चुनौती स्वीकार करना चाहें, तो उनके नाम पर क्लिक करके उनके घोषणा पृष्ठ पर पहुँच सकते हैं, मैंने सभी की डायरेक्ट लिंक लगा दी है! इसके अलावा अभी और भी कई सारे संस्थान हैं, मगर आप केवल इन दस से ही करीब तीन करोड़ रूपए कमा सकते हैं, यदि आपके पास एक भी अलौकिक शक्ति है! 

आप इतनी देर से सोंच रहे होंगे कि ईनाम तो ठीक है, मगर इसे जीता कैसे जाए? वैसे तो ये सभी पुरस्कार किसी भी एक ऐसे चमत्कार को दिखाकर प्राप्त किये जा सकते हैं, जिसमें कोई चालबाजी न की गयी हो, जो अलौकिक हो! मगर यदि आप या आपका कोई परिचित देव पुरुष, संत, योगी, सिद्ध गुरु, स्वामी या अन्य दुसरे जिन्होंने आत्मिक क्रिया कलापों से या परमात्मा की शक्ति से शक्ति प्राप्त की हो, वह निम्नलिखित में से किसी भी एक का प्रदर्शन करके ईनाम की रकम जीत सकते हैं-

  1. जो सील बंद करेंसी नोट का क्रमांक पढ़ सकता हो!
  2. जो किसी करेंसी नोट की ठीक नक़ल पैदा कर सकता हो!
  3. जो जलती हुई आग पर, अपने देवता के सहारे आधे मिनट से अधिक तक नंगे पैर खड़ा हो सकता हो!
  4. ऐसी वस्तु, जिसकी मांग की जाए, हवा से पैदा कर सकता हो!
  5. मानसिक शक्ति से किसी वस्तु को हिला या मोड़ सकता हो!
  6. टेलीपैथी के माध्यम से किसी दुसरे व्यक्ति के विचार पढ़ सकता हो!
  7. प्रार्थना, आत्मिक शक्ति, गंगा जल या पवित्र राख से अपने शरीर के किसी अंग को एक इंच बढ़ा सकता हो!
  8. जो योग शक्ति से हवा में उड़ सकता हो!
  9. जो योग शक्ति से पांच मिनट के लिए अपनी नब्ज रोंक सकता हो!
  10. पानी के ऊपर पैदल चल सकता हो!
  11. अपना शरीर एक स्थान पर छोड़कर दुसरे स्थान पर प्रकट कर सकता हो!
  12. योग शक्ति से अपनी श्वसन क्रिया तीस मिनट तक रोंक सकता हो!
  13. रचनात्मक बुद्धि का विकास करे! भक्ति या अज्ञात शक्ति से आत्म ज्ञान प्राप्त करे!
  14. पुनर्जन्म के कारण कोई अद्भुद भाषा बोल सकता हो!
  15. ऐसी आत्मा या प्रेत को पेश कर सके जिसकी फोटो ली जा सके!
  16. फोटो लेने के उपरांत फोटो से गायब हो सकता हो!
  17. किसी वस्तु का भर बढ़ा सकता हो!
  18. ताला लगे कमरे में से अलौकिक शक्ति से बाहर आ सकता हो!
  19. किसी छिपी हुई वस्तु को खोज सकता हो!
  20. पानी को शराब या पेट्रोल में परिवर्तित कर सकता हो!
  21. शराब को खून में परिवर्तित कर सकता हो!
  22. ज्योतिषियों के लिए विशेष : ऐसे ज्योतिषी एवं पण्डे जो यह कहकर लोगों को गुमराह करते हैं कि ज्योतिष और हस्त रेखा एक विज्ञान है, वह भी इस ईनाम को जीत सकते हैं अगर वे दस हस्त चित्रों या दस ज्योतिष पत्रिकाओं को देखकर आदमी और औरत की अलग अलग संख्या, जीवित और मृत लोगों की अलग अलग संख्या, और उन सभी के जन्म का ठीक समय व स्थान, अक्षांशरेखांश के साथ बात दें! इसमें पांच प्रतिशत की गलती माफ़ होगी!

उपरोक्त सभी 22 चुनौतियाँ डा. अब्राहम कोवूर नें सन 1963 में दी थीं, जिनमे से एक को भी पूरा करने वाले को वो बदले में एक लाख श्रीलंकन रूपए, जो उनकी जिंदगी भर की सारी कमाई थी, देने को तैयार थे! उनकी यह घोषणा उस समय दुनिया भर के सभी समाचार पत्रों में छपी थी! यह चुनौती उनकी म्रत्यु तक जारी रही, मगर कोई भी इसे जीत न सका! 1978 में उनकी म्रत्यु के बाद बसवा प्रेमानंद ने उनकी चुनौती को एक लाख भारतीय रूपए के रूप में चालू रखा! मगर 2009 में उनकी म्रत्यु भी हो गयी, मगर फिर भी इसे कोई न जीत सका! फिर दो वर्षो बाद अब्राहम कोवूर द्वारा श्रीलंका में स्थापित की गयी Sri Lanka Rationalist Association ने 2012 में उनकी चुनौती को दस लाख श्रीलंकन रूपए के ईनाम के साथ पुनः प्रारंभ कर दिया, जो कि अभी तक चल रही है! वहीँ दूसरी तरफ 1984 में मेघराज मित्र की अध्यक्षता में गठित ‘तर्कशील सोसाइटी, पंजाब‘ ने भी डा. कोवूर की चुनौती को अपने गठन के बाद से ही प्रारंभ रखा! ईनाम की रकम को बढ़ाते हुए आज 2014 में तर्कशील सोसाइटी ने इसे एक करोड़ रूपए तक बढ़ा दिया है! मगर आजतक कोई भी व्यक्ति इनमे से एक रूपए भी नहीं कमा पाया है!

इस पोस्ट की समाप्ति डॉ. कोवूर के ही कथन से करते हैं

“जो मनुष्य अपने चमत्कारों की पड़ताल करने की आज्ञा नहीं देता, धोखेबाज होता है! जिसमें चमत्कारों की पड़ताल करने का सहस नहीं होता, वह अन्धानुयायी होता है! जो बिना पड़ताल किये ही विश्वास कर लेता है, वह मूर्ख होता है!

प्रस्तावना

जब मैं छोटा थादेखता कि वे सभी लोग, जिन्हें मैं जनता था,  किसी संत या धार्मिक ग्रंथों और पुस्तकों में लिखी किसी भी बात को लेश मात्र भी शक द्रष्टि से नहीं देखते थे. उनकी कही या उनमें लिखी सभी बातों को बिना कोई तर्क किये ऐसे ही मान लेते थे. मेरे पढ़ेलिखे भाई भी इसके विपरीत नहीं थे. मेरे परिवार में मेरी मौसी जी ही भिन्न-भिन्न प्रकार के व्रत रखती थीं, जैसे हर सात दिन में ब्रहस्पति भगवान का व्रत, हर पंद्रह दिन में प्रदोष व्रत, हर शुक्रवार को संतोषी माता का व्रत, और भी जितने व्रत बीच बीच में पड़ते रहते, वे सभी. प्रतिदिन अखबारों में निकला ही करता था कि आज अमुक पर्व है, आज के दिन व्रत रखने वालों को यह फल प्राप्त होता है, उनसे भगवान प्रसन्न होते हैं, और हमारे यहाँ उसका व्रत रख लिया जाता था! वह प्रतिदिन करीब एक घंटे से भी अधिक पूजा करती थीं. इसी प्रकार मेरी माँ भी थीं! पूरे क्षेत्र का वातावरण कुछ इस प्रकार का था कि उस व्यक्ति को सबसे अधिक सम्मान की द्रष्टि से देखा जाता था, जो जितना अधिक धर्मकर्म और पूजा-पाठ करता था! इसी माहौल में मेरा जन्म हुआ था. मुझमें भी यही संस्कार डाले गए थे. संस्कार स्वरुप मैं और भी अधिक धार्मिक प्रवृत्ति का हुआ! ईश्वर के प्रति गहरी आस्था तो थी ही, और जैसा कि बताया अधिक धार्मिक अधिक अच्छा माना जाता था, शायद इसलिए मैं इस ओर और अधिक आकर्षित हुआ.

varaha_avatar

पृथ्वी को बचाते हुए वाराह भगवान

बचपन में वैसे भी कोई काम धंधा तो होता नहीं था, न ही स्कूल में कोई ज्यादा काम मिलता था, सो जो किताबें घर में दिखती, उन्हें ही पढ़ा करता! घर में धार्मिक पुस्तकों के अतिरिक्त और कुछ होता भी न था. इसी क्रम में एक पुस्तक ‘दशावतारपढ़ी थी. इसमें भगवन विष्णु के वाराह अवतार के सम्बन्ध में बताया गया था कि जब पृथ्वी किसी राक्षस के प्रभाव से समुद्र में डूब रही थी, तो विष्णु भगवान ने वाराह अवतार लेकर पृथ्वी को अपने दो बड़े दांतों से उठाकर उसे डूबने से बचाया था. किताब में इसका चित्र भी दर्शाया गया था. मैं तब काफी छोटा ही था, कक्षा 3 में ही था शायद, मगर टीवी, अख़बार इत्यादि से इतना जानने लगा था कि पृथ्वी कैसी है और खाली आकाश में कैसे बिना किसी सहारे के टिकी है! सो इन दोनों ही बातों का सच होना संभव नहीं था. समुद्र पृथ्वी के अन्दर है, फिर पृथ्वी समुद्र में कैसे डूब सकती हैयह विरोधाभाषी बातें थीं, और यही मेरे जीवन का पहला अनुभव था धर्मग्रंथों पर अविश्वास करने का!

170px-Ibn_al-Haytham

Alhazen

ग्यारहवीं शताब्दी में अरब के महान दार्शनिक और वैज्ञानिक इबेन अल्हेजेन (Ibn Al-Haytham or Alhazen) वो पहले इन्सान थे जिन्होंने गलती पकड़ने का तरीका इजात किया था. उन्होंने अपने शिष्यों से कहा था, सच को ढूंढना मुश्किल है और सच का रास्ता और भी मुश्किल. सच्चाई की खोज करने वाले को फैसला करने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए और न ही पहले की लिखी किताबों पर आँख मूंदकर यकीन करना चाहिए. उन किताबों में लिखी बातों को हर प्रकार से सवाल पूछकर जांचना चाहिए. सिर्फ तर्क और प्रयोगों में साबित बातों को ही मानना चाहिए, किसी की कही बातों को नहीं. एक बात हमेशा याद रखना चाहिए कि हर इन्सान गलतियों का पुतला होता है, और हम तो सच की खोज में निकले हैं. इसलिए हमें अपनी खोज के दौरान खुद अपने आप पर भी शक करना है और खुद से भी सवाल पूछना है ताकि हम लापरवाही और पूर्वाग्रह के शिकार न हो पायें. इस रास्ते पर चले तो सच्चाई तुम्हारे सामने होगी.”  ये तरीका विज्ञान का तरीका है, इतना ताकतवर कि आप अगर आज विदेश में बैठे मित्र से बात कर पाते हैं तो इस तरीके के कारण ही! इसने हमारी औसत उम्र दुगनी कर दी और रोबोट को सौरमंडल से बाहर भेज दिया!

download

Abraham Kovoor

 

मगर इस तरीके को उपेक्षित करते हुए हमारे देश और विदेशों में भी अन्धानुकरण करने वाले लोगों की संख्या बहुतायत में पायी जाती है! ईमानदार आदमी अपनी दिनचर्या ईमानदारी के कार्यों से चलाता है और बेईमान आदमी मेहनत करने वालों के साथ धोखा करके. इस सूचि में प्रचारक, पादरी, संत, महंत, सिद्ध गुरु, स्वामी, योगी, ज्योतिषी  और पण्डे इत्यादि शामिल हैं, जो चमत्कार, योग शक्ति, जादूटोना, प्रेत, टेलीपैथी एवं धार्मिक पाखंडों से भोलेभाले लोगों को लूटते हैं. डॉ कोवूर के उम्रभर इसी विषय पर किये गए शोध का निष्कर्ष था कि जो भी लोग किसी अलौकिक शक्ति होने का दावा करते हैं, वे या तो धूर्त होते हैं या फिर मानसिक रोगी! डा कोवूर ने लगभग पचास वर्षों तक हर प्रकार के मानसिक, अर्धमानसिक एवं आत्मिक चमत्कारों की गहराई तक खोज की और अंत में इस निष्कर्ष तक पहुंचे कि ऐसी बातों में लेश मात्र भी सत्य नहीं होता. इस संसार के मनोचिकित्सकों में डा कोवूर अकेले ऐसे आदमी थे, जिनको इस क्षेत्र में खोज करने के लिए पीएचडी की डिग्री प्राप्त हुई. भूतप्रेतों की खोज में वह भूत घरों में सोये और कब्रिस्तानों में उन्हें खोजने की कोशिश की. इन्होने अपने जीवन के सभी महत्वपूर्ण कार्य ‘अशुभ मौकोंपर शुरू किये. इन्होने अपने समय में एक लाख श्रीलंकन रुपये, जो की इनकी कुल संपत्ति थी, को भी दांव पर लगा दिया था. इन्होने चुनौती दी थी कि संसार का जो भी व्यक्ति बिना धोखे की स्थिति में कोई चमत्कार या अलौकिक शक्ति का प्रदर्शन करेगा, उसे वह एक लाख श्रीलंकन रुपये देंगे. यह चुनौती उनकी म्रत्यु तक जारी रही, मगर कोई भी इसे न जीत सका.

 

झूठ को लोगों तक पहुँचाने का सबसे बड़ा माध्यम है समाचार पत्र. इसमें हम कभी किसी के पुनर्जन्म की घटना पढ़ते हैं, तो कभी किसी किसी उलटे पैर वाली चुड़ैल की, कभी किसी की आत्मा शवदाह संस्कार के पहले पुनः शरीर में प्रवेश कर जाती है, तो कभी कोई आत्मा के साथ बात करने वाला मिल जाता है. चूकी यह सभी बातें समाचार पत्रों में छपती हैं इसलिए हम ज्यादा शक न करते हुए इसपर विश्वास कर लेते हैं. मगर वास्तव में अगर इनकी पड़ताल की जाती है, तो कई घटनाएं पूरी तरह से झूठ होती हैं, तो कई घटनाएँ किसी विशेष मकसद से प्रकाशित करवाई जाती हैं. कुछ घटनाओं में जिसकी खबर होती है, वो ही झूठी प्रतिष्ठा पाने के उद्देश्य से खुद कहानी गढ़ता है. इस ब्लॉग में इसी प्रकार की और भी ढेर सारी कहानियों का डी एन ए टेस्ट किया जायेगा. आपको उस कहानी के पीछे का असली कारण बताया जायेगा. हमारा प्रयास रहेगा कि इसमें हर प्रकार के अन्धविश्वास को शामिल किया जाए, और आपको तर्कशील बनाने में मदद की जाए!

 अनमोल